कुछ सच्ची और अच्छी बातें | Kuch sacchi or acchi baaten by Rohit Kumar

By | June 7, 2021

1. जिस व्यक्ति को आपके रिश्ते की कदर नहीं है उसके साथ खड़े होने से अकेले खड़े रहना अच्छा है यह अभिमान नहीं स्वाभिमान है |

 

 

2. जीवन के शुरुआती सफर में बस इतना पड़ाव देखा मैंने, लोगों का रिश्तों से ज्यादा पैसों से जुड़ाव हो देखा मैंने |

 

 

3. रिश्ते कांच की तरह होते हैं टूट कर बिखर ही जाते हैं समेटने की ज़हमत कौन करे लोग नया काँच ही ले आते हैं |

 

 

4. आज नाम तक याद नहीं होते रिश्तेदारों के शायद इसलिए ही आजकल नाम के रिश्ते रह गए हैं |

 

 

5. रिश्तो को इतनी जगह ना दो जगह दो तो दूर जाने की वजह ना दो वजह हो तो इतने दूर ना जाओ पास आने की कोई जगह ना हो |

 

 

6. कीमती हैं सिक्के ईमान सस्ता है यहां रिश्तो का मतलब ही मतलब का रिश्ता है |

 

 

7. रिश्ता वो नहीं जो दुनिया को दिखाया जाए रिश्ता वो है जिसे दिल से निभाया जाए |

 

 

एक बार एक स्वामी जी भिक्षा माँगते हुए एक घर के सामने खड़े हुए और उन्होंने आवाज लगायी, भिक्षा दे दे माते…..

घर से महिला बाहर आयी उसने उनकी झोली मे भिक्षा डाली और कहा :

“महात्माजी, कोई उपदेश दीजिए!”

स्वामीजी बोले, “आज नहीं, कल दूँगा। कल खीर बना के देना।”

दूसरे दिन स्वामीजी ने पुन: उस घर के सामने आवाज दी – भिक्षा दे दे माते….!!

उस घर की स्त्री ने उस दिन खीर बनायीं, जिसमे बादाम-पिस्ते भी डाले थे।

वह खीर का कटोरा लेकर बाहर आयी, स्वामी जी ने अपना कमंडल आगे कर दिया।

वह स्त्री जब खीर डालने लगी, तो उसने देखा कि कमंडल में गोबर और कूड़ा भरा पड़ा है। उसके हाथ ठिठक गए।

वह बोली, “महाराज ! यह कमंडल तो गन्दा है।”

स्वामीजी बोले, “हाँ, गन्दा तो है, किन्तु खीर इसमें डाल दो।”

स्त्री बोली, “नहीं महाराज, तब तो खीर ख़राब हो जायेगी। दीजिये यह कमंडल, में इसे शुद्ध कर लाती हूँ।”

स्वामीजी बोले, मतलब जब यह कमंडल साफ़ हो जायेगा, तभी खीर डालोगी न ?”

स्त्री ने कहा : “ जी महाराज !”

स्वामीजी बोले, “ मेरा भी यही उपदेश है।”

मन में जब तक चिन्ताओ का कूड़ा-कचरा और बुरे संस्करो का गोबर भरा है, तब तक मेरे उपदेश का कोई लाभ नहीं होगा। यदि उपदेश का पालन करना है, तो सर्वप्रथम अपने मन को शुद्ध करो | कुसंस्कारो का त्याग करो, तभी सच्चे सुख और आनन्द की प्राप्ति होगी।

 

यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करें धन्यावाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *