(गौतम बुद्ध) इसके बाद आपको नकारात्मक विचार कभी नहीं आयेंगे || Buddhist Story on Negativity

By | February 2, 2022

इस वीडियो में बताई गई बातों को ध्यान से सुनें आपके नकारात्मक विचार पूरी तरह से खत्म हो जाएंगे चलिए एक साधारण साधारण से उदहारण से समझते हैं :-

 

एक बार की बात है एक आदमी था जो अपने नकारात्मक विचारों के कारण हमेशा परेशान रहता था एक दिन उसने एक बुद्धिमान व्यक्ति को एक पेड़ के नीचे बैठा देखा तो उसने उस ज्ञानी व्यक्ति से पूछा कि मैं अपने नकारात्मक विचारों को कैसे खत्म करूं..?

 

क्या आप मेरी मदद करेंगे..??

 

उस बुद्धिमान व्यक्ति ने एक सवाल से बात की शुरुआत की, कि क्या पानी के अंदर सांस लेना संभव है.?

व्यक्ति ने जवाब दिया “नहीं” यह असंभव है..

 

इस पर बुद्धिमान व्यक्ति ने कहा हां तुम सही कह रहे हो, अगर तुम पानी के अंदर जाते हो तो पानी तुम्हारी आंखों को नुकसान कभी नहीं पहुंचा सकता, अगर तुमने अपनी आंखें बंद कर रखी हों |

 

पानी तुम्हारे नाक में भी नहीं जा सकता जब तक तुम उस में सांस नहीं लोगे |

और वह पानी तुम्हारे फेफड़ों में भी नहीं भर सकता जब तक तुम अपना मुंह नहीं खोलोगे |

 

 

ठीक उसी प्रकार अगर तुम एक TOXIC वातावरण से घिरे हुए हो ठीक उस पानी की तरह तो तुम खुद चुन सकते हो कि तुम्हें उसे ग्रहण करना है या नहीं |

कृपया अपनी आंखें बंद रखो उन सभी TOXIC लोगों और उनके BEHAVIOUR के प्रति और उनके जैसे बनने की कोशिश ही मत करो उनसे बदला लेने की सोच रखकर |

 

YOU DO NOT NEED TO STOOP TO THEIR LOW LEVEL

 

 

तुम्हें उनके जैसे बनने की कोई जरूरत नहीं है | TOXIC लोग अंदर से सड़े हुए खाने की तरह होते हैं और वो बहुत गंदी सांसे लेते हैं वो खुद और अपने आसपास के लोगों के रवैये से परेशान होकर वैसे हो गए हैं | उनके प्रति सहानुभूति रखिए अगर आप उन्हें माफ कर सकते हैं तो माफ कर दीजिए लेकिन उनके पास खड़े होकर कभी सांसे ना लीजिए |

 

ऐसे TOXIC लोगों के साथ कभी किसी भी बहस में हिस्सा मत लीजिए क्योंकि संभवत: ऐसे लोगों से बात करके आप कोई meaningful निष्कर्ष नहीं निकाल सकते |

 

ऐसे लोग कभी अपनी गलती स्वीकार नहीं करते अपनी उर्जा कहीं अच्छी जगह के लिए बचा कर रखें और अंत में आप उस पानी में से जितनी जल्दी से जल्दी हो सके बाहर निकल जाएँ |

 

 

क्योंकि आप अपनी आंख, नाक और मुंह हमेशा के लिए बंद नहीं रख सकते | नकारात्मकता आपके अंदर अपने आप ही प्रवेश कर जाएगी अगर आप ज्यादा देर तक वहां रहेंगे |

LEAVE THAT NEGATIVE PLACE AS SOON AS POSSIBLE

 

 

एक बात हमेशा याद रखें जो आप सोचते हैं वही बनते हैं |

SO TRAIN YOUR MIND. BE POSITIVE IN NEGATIVE SITUATION.

Leave a Reply

Your email address will not be published.