जब किसी काम में सफलता ना मिल रही हो तो इसे सुनो🔥Gautam Buddha Story in Hindi | Buddha Story | Buddhism Story in Hindi

By | March 6, 2022

संत के आश्रम में एक से शिष्य कहीं से एक तोता ले आया और उसे पिंजरे में रख दिया संत ने कई बार शिष्य से कहा इसे यूं कैद ना करो परतंत्रता संसार का सबसे बड़ा अभिशाप है किंतु शिष्य अपने बाल सुलभ कौतूहल को ना रोक सका और उसे पिंजरे में बंद किये रहा |

 

 

तब संत ने सोचा कि तोते को ही स्वतंत्र होने का पाठ पढ़ाना चाहिए | उन्होंने पिजड़ा अपनी कुटिया में ही मंगवा लिया और तोते को नित्य ही सिखाने लगे कि “पिंजरा तोड़ दो, उड़ जाओ”

 

 

कुछ दिनों में तोते ने भली-भांति यह वाक्य रट लिया |

 

 

 

कुछ दिनों के पश्चात एक दिन सफाई करते समय भूल से पिंजरा खुला रह गया | संत कुटिया में आए तो देखे कि तोत बाहर निकल आया है और बड़े आराम से घूम रहा है | साथ ही साथ ऊंचे स्वर में कह भी रहा है कि “पिंजरा तोड़ दो, उड़ जाओ”

 

 

संत को आता हुआ देख वह पुनः पिंजरे के अंदर चला गया और अपना पाठ बड़ी जोर – जोर से दोहराने लगा |

 

 

संत को यह देखकर बहुत ही आश्चर्य हुआ साथ ही दुख भी |

 

 

वो सोचते रहे इसने केवल शब्द को ही याद किया | यदि यह इसका अर्थ भी जानता होता तो यह इस समय इस पिंजड़े से स्वतंत्र हो गया होता |

 

 

दोस्तों कहानी से आपको क्या सीख मिलती है ? यही कि इस तोते की तरह हमें भी यही सिखाया जाता है कि कैसे अच्छे अंक लायें | क्लास में टॉप कैसे करें | पर इन सब वजहों से हम उस ज्ञान से वंचित रह जाते हैं जो हम पाना चाहते हैं |

 

 

दोस्तों यह वीडियो आपको कैसी लगी हमें कमेंट में जरूर बताइए इस वीडियो को अभी लाइक कीजिए धन्यवाद दोस्तों |

Leave a Reply

Your email address will not be published.