बुरे समय में क्या करें ? 😭 How To Face Difficult Situation ? Motivational Video

By | February 8, 2022

एक समय की बात है एक राज्य था | उसके राजा के सभी मित्र राज्यों के साथ बहुत अच्छे व्यवहार थे यानी कि वो सभी के अच्छे दोस्त थे | सभी के यहां आना जाना लगातार लगा रहता था | इसलिए सभी राज्य उनके लिए आए दिन कुछ ना कुछ भेजते रहते थे | कभी ज़ेवर हो, कभी खाने को कुछ, कभी वस्त्र हो कुछ ना कुछ गिफ्ट हमेशा देते रहते थे |

एक दिन उनके दरबार में एक विदेशी मेहमान आए और उसने जाते समय राजा की मेहमान नवाजी से खुश होकर राजा को एक पत्थर उपहार दिया यानी गिफ्ट किया | राजा को वो पत्थर बहुत ही अच्छा लगा | राजा ने अपने मंत्री को उस पत्थर की मूर्ति बनाने का हुकुम दिया |

 

 

राजा उस मूर्ति को अपन राजमंदिर में लगवाना चाहता था | राजा की अनुमति लेकर मंत्री एक कारीगर के पास जाता है | उसको पत्थर देकर कहता है कि इसकी एक अच्छी सी मूर्ति बनवा दो | ये काम दस दिन के अंदर हो जाना चाहिए | इसके बदले तुमको जो चाहिए वो मिलेगा | साथ ही साथ 100 सोने की मोहरें दी जाएंगी | यह सुनकर कारीगर बहुत खुश हो गया |

 

 

और उसने अपनी सभी वस्तुओं को लेकर काम शुरू कर दिया | अब वो उस पत्थर को तोड़ने लगा | जिससे वो उसकी अच्छी सी मूर्ति बना सके | कई बार चोट मारने पर भी वह पत्थर नहीं टूटा | उसने उस पत्थर पर लगभग पचास चोट मारी | करता रहा करता रहा पर वह पत्थर टूट नहीं रहा था | अंत में एक चोट मारकर वो कहता है अब ये काम मुझसे नहीं होगा | अरे जब इतनी चोट खाने पर भी ये पत्थर नहीं टूटा तो अब क्या खाक टूटेगा ?

 

 

उसने उस पत्थर को मंत्री को वापस दे दिया और कहा कि इसकी मूर्ति नहीं बन सकती | लेकिन मंत्री को तो किसी भी हाल में मूर्ति बनवानी थी | राजा का हुकुम जो था | मंत्री उस पत्थर को लेकर दूसरे एक साधारण से कारीगर के पास जाता है | जैसे ही उस कारीगर ने एक चोट मारी और वो पत्थर टूट गया | टूट गया तो वो उसकी मूर्ति बनाने लगा |

 

 

मूर्ति बनाकर उसने मंत्री को दे दी | मंत्री ने उसे मोहरे दे दीं | अब वो मंत्री जाते-जाते एक ही बात सोच रहा था कि अगर उस पहले वाले कारीगर ने एक अंतिम प्रयास भी किया होता तो ये सोने की मोहरें उसकी होतीं |

 

 

ये कहानी हमें क्या सिखाती है कि कई बार हम बहुत मेहनत करते हैं लेकिन फिर भी हम उस काम को अधूरा छोड़ देते हैं | ये सोच कर कि अगर अब तक नहीं हुआ तो आगे भी नहीं होगा | ये शायद मेरे लिए है ही नहीं | मेरी किस्मत में ही नहीं है | मुझसे होगा ही नहीं | पर असलियत में आपको बस एक बार और करने की जरूरत है | थोड़ी सी मेहनत और करने की जरूरत है | थोड़ा सा PATIENCE और रखने की जरूरत है शायद जिस वक्त उस काम को छोड़ रहे हों उसकी अगली ही बार वो काम हो जाए लेकिन हम उसे छोड़ देते हैं | अपने GOALS को छोड़ देते हैं | अपने सपनों को छोड़ देते हैं | अपनी जीत को छोड़ देते हैं |

 

 

तो JUST BECAUSE कुछ समय के लिए आपका काम नहीं हुआ इसका मतलब ये नहीं कि आप रुक जाएं या हार मान लें क्योंकि मेहनत अपना असर जरूर दिखाती है | किसी को जल्दी तो किसी को देर से, पर असर जरूर दिखाती है | तो हारो मत, बस मेहनत करते रहो | नए-नए तरीके ढूंढते रहो जिससे आपका काम हो जाए | जिससे आपको आपके GOALS मिल जाएं | जिससे आप सक्सेसफुल हो जाएं क्योंकि अगर जो तुम रुक गए तो वो जो सोने की मोहर हैं वो कोई और ले जाएगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published.