Rahim Ke Dohe | Rahim Vani(DOHE) In Hindi By Enchanted Brain

By | August 29, 2018

Rahim Ke Dohe | Rahim Vani(DOHE) In Hindi By Enchanted Brain

Quote 1 : रहिमन पानी राखिये बिन पानी सब सुन पानी गए न उबरे, मोटी मानष चुन – रहीम (Rahim)

Quote 2 : जो बड़ेन को लघु कहें, नहीं रहीम घटि जाहिं, गिरधर मुरलीधर कहें, कछु दुःख मानत नाहि – रहीम (Rahim)

Quote 3 : जो रहीम उत्तम प्रकति का करी सकत कुसंग, चंदन विष व्यापे नहीं, लिपटे रहत भुजंग – रहीम (Rahim)

Quote 4 : रहिमन धागा प्रेम का, मत तोको चटकाए, टूटे पर फिर न जुरे, जुरे गाँठ पर जाए – रहीम (Rahim)

Quote 5 : दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहीं, जान परत है काक पिक, रितु बसंत के नाहिं – रहीम (Rahim)

Quote 6 : रहिमन ओछे नरन सो, बैर भली न प्रीत, काटे चाटे स्वान के, दोउ भांति विपरीत – रहीम (Rahim)

Quote 7 : रहिमन देखि बड़ेन को, लघु न दीजिये डारी, जहाँ काम आवे सुई, कहाँ करे तलवारी – रहीम (Rahim)

Quote 8 : वे रहीम नर धन्य हैं, पर उपकारी अंग, बाँटन वारे को लगे ज्यों मेहँदी के रंग – रहीम (Rahim)

Quote 9 : बिगरी बात बने नहीं, लाख करो किं कोए, रहिमन फाटे दूध को माहे न माखन होए – रहीम (Rahim)

Quote 10 : रूठे स्रजन मनाइए जो रूठें सौ बार, रहिमन फिरि फिरि पोइए, टूटे मुक्ता हार – रहीम (Rahim)

Quote 11 : खीर सिर ते काटी के, मलियत लॉन लगाए, रहिमन करुए मुखन को चाहिए यही सजाये – रहीम (Rahim)

Quote 12 : रहिमन निज मन की बिथा, मन ही राखो गोए, सुनी इठलेंहें लोग सब, बांटी लेंहें कोए – रहीम (Rahim)

Quote 13 : तरुवर फल नहीं खात है सर्वर पियहिं न पान, कहि रहीम पर काज़ हित, सम्पति संचहिं सुजान – रहीम (Rahim)

Quote 14 : दुःख में सुमिरन सब करे, सुख में करे न कोए, जो सुख में सुमिरन करे तो दुःख काहे होए – रहीम (Rahim)

Quote 15 : खैर, खून, खाँसी, ख़ुसी, बैर, प्रीति, मदपान, रहिमन दाबे न दबे, जानत सकल जहान – रहीम (Rahim)

Quote 16 : जो रहीम ओछो बढे, तौ अति ही इतराए, प्यादे सों फर्जी भयो, टेढो टेढो जाए – रहीम (Rahim)

Quote 17 : जो रहीम गति दीप की, कुल कपूत गति सोए, बारे उजियारो लगे, बढे अंधेरों होए – रहीम (Rahim)

Quote 18 : रहिमन वे नर मर गए, जे कछु मांगन जाहिं, उतने पाहिले वे मुए, जिन मुख निकसत नाहिं – रहीम (Rahim)

Quote 19 : बड़ा हुआ तो क्या हुआ, जैसे पेड़ ख़जूर, पंथी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर – रहीम (Rahim)

Quote 20 : रहिमन चुप हो बैठिये, देखि दिनन के फ़ेर, जब नाइके दिन आइहैं, बनत न लगीहैं देर – रहीम (Rahim)

Quote 21 : बानी ऐसी बोलिए मन का आप खोय, औरन को सीतल करे, आपहु सीतल होए – रहीम (Rahim)

Quote 22 : रहिमन ओछे नरन सो, बैर भली न प्रीत, काटे चाटे स्वान के, दोउ भाँती विपरीत – रहीम (Rahim)

Quote 23 : मन रोटी अरु दूध रस, इनकी सहज सुभाए, फट जाए तो न मिले, कोटिन करो उपाए – रहीम (Rahim)

Quote 24 : रहिमन विपदा ही भली, जो थोरे दिन होए, हित अनहित या जगत में, जानी परत सब कोए – रहीम (Rahim)

तो दोस्तों उम्मीद करता हूँ ये सारे Quotes आपको जरुर पसंद आये होंगे| अपने विचार मुझे कमेंट में जरुर बताएं |

आपका बहुमूल्य समय हमें देने के लिए आपका बहोत बहोत शुक्रिया |

Picture Credit : Google Images

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *